BREAKING NEWS
पांच नाईजीरियाई नागरिकों पर हत्या का मुकदमा, ठोस सबूत नहीं होने के कारण पुलिस ने आरोपियों को छोड़ा     औद्योगिक विकास के मार्ग में आ रही बाधाओं को दूर करना प्राथमिकता : सतीश महाना   

Date:23-06-17 Time:12:19:26

 

 

 

 


Welcome To PariChowkNews Online Web Directory

हथियार बनाने की अवैध फैक्ट्री का भंडाफोड़

ग्रेटर नोएडा : बिसरख पुलिस ने अवैध हथियार बनाने की फैक्ट्री का भंडाफोड़ कर एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। हथियारों का जखीरा आरोपी के पास से बरामद किया गया है। पुलिस पूछताछ के दौरान पता चला है कि आरोपी की पहले अलीगढ़ में फैक्ट्री थी। विधानसभा चुनाव के मद्देनजर बिसरख क्षेत्र में आरोपी ने हाल में हथियारों की अवैध फैक्ट्री शुरू की थी। गैंग के गुर्गों को पांच हजार रुपये में एक तमंचा बेचा जाता है। एक आरोपी मौके से पुलिस को चकमा देकर भागने में कामयाब हो गया। पुलिस पकड़े गए आरोपी से सख्ती से पूछताछ कर रही है। बिसरख कोतवाली प्रभारी विनोद पांडे ने बताया कि मुखबिर से सूचना मिली थी कि रोजा याकूबपुर गांव के समीप बनी झुग्गियों में हथियार बनाने की अवैध फैक्ट्री संचालित हो रही है। सूचना के आधार पर शनिवार शाम झुग्गियों में छापेमारी की गई तो एक झुग्गी में अवैध हथियार बनाने की फैक्ट्री मिली। मौके से अलीगढ़ के पाली मडराक गांव के रहने वाले मान ¨सह को गिरफ्तार किया गया। आरोपी का साथी मौके से भाग निकला। मान ¨सह के कब्जे से आठ तमंचा 315 बोर, आठ तमंचा 32 बोर, एक रिवाल्वर, तीन बैरल 12 बोर, एक कारतूस 12 बोर, एक कारतूस 315 बोर, तमंचा बनाने में इस्तेमाल होने वाली ड्रील मशीन, एक सिकंजा, आरी, छह फाय¨रग पिन, छह पत्ती डली हुई, 15 कील, 20 पेंच, सात लकड़ी के चाप, दो बट लोहे की पत्ती, एक प्लास, लोहे का चकला, हथौड़ी व पेचकस बरामद किया गया है। आरोपी ने बताया कि अलीगढ़ में एक तमंचे के महज तीन हजार रुपये ही मिलते हैं, जबकि नोएडा-ग्रेटर नोएडा में एक तमंचे के पांच हजार रुपये मिलते हैं, इसलिए उसने ग्रेटर नोएडा में फैक्ट्री संचालित करनी शुरू कर दी थी।